कातिल?


अरे!! जरा गौर से देखो कातिल कौन है?
कहीं तुम्हारे हाथ में ही खंजर तो नहीं है??
अब सबको यकीन हो गया है,
जिसका कत्ल हुआ है,
वही कातिल है,
अगर ऐसा नहीं होता,
तो गुनहगार पकड़े जाते,
उन्हें सजा होती।
हमारे यहाँ नारों का अजब चलन है,
जो ए जाति, धरम वाला झंडा है,
एक बड़े से खंजर में लटकता है,
वो हमें नजर नहीं आता,
जिसे हमने खुद थाम रखा है,
हम बड़े ही शातिर, बदमाश हैं,
जमके मातम भी मना लेते हैं,
कुछ आदत ही ऐसी है,
जल्द ही सब भूलकर,
फिर किसी झंडे को,
थाम लेते हैं।
rajhansraju

Comments

स्मृतियाँँ

संवाद

दहलीज

जिद्दी बच्चे

आम का पेड़

सिर्फ़ मुखौटा है

मै ये नहीं

युद्ध

I lost my sky

सफ़र

फुटपाथी