तूँ वो नहीं है


आज
कई दिनों बाद
आइना देखा
हाँ! पहचानता हूँ
शक्ल तो तकरीबन 
वैसी ही है
जैसा देखा था
फिर यकीन क्यों नहीं होता?
अब भी लग रहा
तूँ वो नहीं है..

Comments

स्मृतियाँँ

सैलाब

पिंजरा

बे शब्द

उस पार चलें

सच्चाई

नींव की ईंट

सब ठीक है

शून्य

कलयुग

ए भी एजेंडा है