पिता-पुत्र


मुझमें जो गूँजता है,
वह तुम्ही हो,
मै अपना अक्श जब आइने में देखता हूँ,
तुम्हारे जैसा ही नज़र आता है,
जब तुम्हारी उँगली पकड़कर चलता था,
भरोसे की ड़ोर हर तरफ होती थी,
दौड़कर तुम्हारे सीने से लग जाना,
खुद को हिफाज़त की सबसे सुरक्षित जगह पाना,
मेरे लड़खड़ाते कदमों को थाम लेना,
बाँह थामकर आसमान में उठाना,
मेरा सपना है, तूँ इतना ऊपर उठे,
तेरा पिता तुझे सर उठा कर देखे,
हर बार गोद लेकर यही बताना।
कुछ समझदार हुआ,
जब तुम्हारा हाथ थामा, वह खुरदरे, कठोर थे,
मैंने अपने हाथ कि तरफ देखा…..
तुम्हारा देर रात आना,
अच्छा नहीं लगता था,
हमारे पास तो सब कुछ है,
फिर तुम साथ क्यों नहीं होते?
कभी-कभी महीनों बीत जाता है, तुम नहीं मिलते..
अब मै समझ पाता हूँ,
मेरे पास क्यों सबकुछ था,
कैसे स्कूल जा पाता था,
तुम क्यों मुझसे दूर थे,
रात-दिन के परिश्रम से,
ए हाथ पत्थर हो गए थे,
मेरे लिए ही तुम घर नहीं आते थे,
तुम्हारी झुर्रियों, आँखों में खुद को देखता हूँ,
शायद! पिता-पुत्र का रिश्ता समझ पाता हूँ?
तुम्हारे लिए मै अब भी उतना ही छोटा हूँ,
अनजाने में, जब नाराज़ हो जाता हूँ,
तुम्हारे अंदर के पिता को नहीं समझ पाता हूँ,
अपने बच्चे के लिए वही अनजाना डर,
दुनिया से बचाने की कोशिश.
तुम अपने बूढ़े कमज़ोर शरीर को,
अब भी मेरे लिए खफा देना चाहते हो,
यह बात,
मै अपने बड़े होते बच्चों कि नाराज़गी,
देखकर समझ पाता हूँ,
एक पिता कि दुविधा,
दूसरा पिता आसानी से समझ लेता है,
आज़ कि दुपहरी,
उगते और ढ़लते सूरज के बीच खड़े होकर सोचा,
थोड़ा मौन हो लूँ,
बाहें फैलाकर दोनो को खुद में भर लूँ,
मेरे पिता आपकी यात्रा का मै साक्षी हूँ,
जो कभी खत्म नहीं होगी,
मुझमें तुम सदा मौजूद रहोगे,
यह यात्रा आगे यूँ ही करते रहोगे...

Comments

स्मृतियाँ

सक्षम

अग्नि-परीक्षा