Wednesday, 31 May 2017

बेमकसद

जब वह
कहीं खामोशी से बैठे होता हैं,
उनको लगता है
वो बेमकसद और बेकार हैं,
तब काम आती है
हुनर आवारगी की,
वह निकल पड़ता है
अनजानी राहों पर,
भटकता रहता है,
उसे भी पता नहीं होता,
वह रोज क्या ढूँढता रहता है?
इन रास्तों से लौटना नहीं चाहता,
पर क्या करे थक जाता है,
क्यों कि कुछ मिलता नहीं है,
फिर वही पछतावा क्यों निकला घर से।
जब सब कुछ पास में होता है,
वह नजर नहीं आता है,
जिस चीज को आदमी बाहर ढूँढता है,
वह अंदर बेकार पड़ी है,
थोड़ा सुकून से बैठो,
इतनी जल्दी भी क्या है?
गौर से देखो
इस वक्त पास में क्या है?
तूँ है!
तूँ जिंदा है!
ए एहसास
बहुत है।
rajhansraju

No comments:

Post a Comment