Saturday, 4 June 2016

चूहों की लडाई

आओ मिलके कहें कहानी, 
नहीं करेंगे हम शैतानी,
देखो चूहा घर में आया, 
हमसे कहने है कुछ आया,
अब बिल्ली की नहीं चलेगी, 
सब चूहों ने है ठानी,
दूध मलायी खाना है, 
बिल्ली को भगाना है,
कोई चूहा नहीं ड‌रेगा, 
अपना सब पर राज़ चलेगा,
चूहा अकड‌ के आया अंदर, 
जैसे हो वही सिकंदर,
अब अपना नारा होगा, 
कोई चूहा राजा होगा,
उसके पीछे दो तगडे‌ चूहे, 
आगे पीछे चूहे-चूहे,     
लडने कि तैयारी शुरू हुई, 
सेना आके खडी हुई,
तभी एक बूढा‌ चूहा आया, 
ज़ोर-ज़ोर वह चिल्लाया,
बिल्ली आयी..बिल्ली आयी,
दुम दबके भगे सारे
बूढा चूहा बोला हँसके,
बिल्ली से क्या खाक लडेंगे,
     ए तो हैं पक्के चूहे..      

No comments:

Post a Comment