Saturday, 20 March 2010

परिवर्तन


जिंदगी में बदलाव आते हैं ,
हर पल कुछ नया हो जाता है ।
शक्ल सूरत भी , एक सी कहाँ रहती ।
अरमान कुछ और हो जाते हैं ,
नए इरादे नए फ़साने बन जाते हैं ।
हकीकत से जब दो -चार होते हैं ,
जिंदगी के मायने बदल जाते हैं ।
अपनों से ही गिला - शिकवा होता है,
दुशवारियों में जब घिरा होता है ।
उड़के आसमान में कहाँ जाओगे ,
थक जाओगे !
लौट कर जमीन पर ही आओगे ।
भाग लो खुद से कितना भी ,
एक दिन ठहर जाओगे । ।

No comments:

Post a Comment